दरिया-साहिल

IMG_20170714_020248_301.jpg

Advertisements

तलाश

वो आँखें अमावस की काली रात सी वो पलकें उनपे तारों की बारात सी खोई रहती अपने चाँद की तलाश में मुन्तज़िर आँखें पूनम की आस में… Read more “तलाश”

तुम

यूँ ही तुम सदा मुस्कुराती रहो तराने ज़िन्दगी के हंस के गुनगुनाती रहो ग़म-ए-दुनिया के बोझ तले कितने अनगिनत हैं दबे, कुचले माटी के पुतले, सब काठ… Read more “तुम”

रचना

वो गुलाब की पंखुड़ियों से सुन्दर सरसों  की लड़ियों सी झरझर झरना उसकी मुस्कान मन में छेड़े एक मधुर तान   मदमस्त हवा सी बहती वो मुझ… Read more “रचना”

Radio

I stand astonished, amazed
Inundated with wonder
Listening to His compositions
With rhythm tallying my heartbeats
Lyrics ambling with my various moods
And tune that intoxicates my soul;
His music
To which the rivers come gushing
The breezes blow blushing
Birds chirp in applaud
Humbled trees bow
And the clouds are moved to tears,
Whenever I pull out the earphones
Plugged into my ears at one end
and my mobile another
Tuned to my favorite FM station.